संस्‍कृतजगत्

संस्‍कृत सहायता प्रकोष्‍ठ | SANSKRIT HELP FORUM

Neeraj kant

हिंदी अर्थ

द्वैमातुर कृपासिन्धो! षाष्मातुराग्रज प्रभो।
वरद त्वं वर देहि वांछितं वांत्रिछतार्थद।।
अनेन सफलार्ध्येण फलदांऽस्तु सदामम।।

समय : 03:54:16 | दिनाँक : 27/03/2020
उत्‍तर दें
प्रमोदाचार्यः

द्वैमातुर कृपासिन्धो! षाष्मातुराग्रज प्रभो।
वरद त्वं वर देहि वांछितं वांत्रिछतार्थद।।
अनेन सफलार्ध्येण फलदांऽस्तु सदामम।।

इसमें कई वर्तनीगतदोष हैं फिर भी अनुवाद प्रस्तुत है
हे कृपा के सागर द्वैमातुर (गणेश) प्रभो ! हे षाण्मातुर (कार्तिकेय) के बड़े भाई, तुम वर देने वाले हो अतः वर दो, तुम कामनाओं को पूर्ण करने वाले हो अतः वांछित (फल) प्रदान करो ।
इस सफल अर्घ्य के द्वारा सदैव ही मेरे लिये फलदायी हो ।
अर्थात् मेरा ये दिया हुआ अर्घ्य आप तक पहुंचे और आप उत्तम फल प्रदान करें ।

X

प्रश्‍न पूँछें

X